Homeपटनानीट पीजी काउंसलिंग में फर्जीवाड़ा पकड़ा, सीट ब्लॉक करने का प्रयास, 4...

नीट पीजी काउंसलिंग में फर्जीवाड़ा पकड़ा, सीट ब्लॉक करने का प्रयास, 4 आवेदक गिरफ्तार

- Advertisement -

विष्णु शर्मा.

जयपुर. राजस्थान की राजधानी जयपुर में नीट पीजी काउंसलिंग (NEET PG Counseling) में फर्जीवाड़ा कर सीट को ब्लॉक करने के बड़े मामले का खुलासा हुआ है. अंतिम चरण में चल रहे मॉप अप राउंड (Mop up round) में पीजी के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों के असली दस्तावेज की जब जांच की गई तब यह फर्जीवाड़ा उजागर हुआ. इसमें बिहार के रहने वाले चार आवेदकों के खिलाफ शास्त्री नगर थाने में मुकदमा दर्ज करवाया गया है. यह रिपोर्ट राजस्थान नीट पीजी डेंटल कॉलेज, जयपुर के चेयरमैन डॉ संदीप टंडन ने दी है. इसकी जांच खुद शास्त्री नगर थानाप्रभारी दिलीप सिंह कर रहे हैं. मामले में पुलिस ने चार अभ्यर्थियों को पूछताछ के बाद सोमवार देर शाम को गिरफ्तार कर लिया गया.

पुलिस में दर्ज कराई गई एफआईआर में बिहार के रहने वाले मोहम्मद शाबाज, मोहम्मद सरफराज आलम, आदित्य रोशन और अमित कुमार को नामजद किया गया है. इनमें तीन युवकों ने बिहार से और चौथे आरोपी आदित्य ने दिल्ली से एमबीबीएस की डिग्री ली है. इसके बाद चारों ने राजस्थान के जयपुर और उदयपुर में निजी मेडिकल कॉलेजों से पीजी करने के लिए आवेदन किया था.

ट्रेन्डिंग खबर :   विश्व में सुख,शांति एवं समृद्धि हेतु बलहा में हुआ गृहे गृहे यज्ञ, विश्वा कल्याण को लेकर साधकों ने महामृत्युंजय मंत्र से दी आहुतियां

असली मूल दस्तावेजों की बजाय फोटो कॉपी जमा करवाई
जयपुर में सुभाष नगर स्थित राजकीय डेंटल कॉलेज में 30 अप्रेल को पीजी के लिए आवेदन करने वालों की काउंसलिंग की गई. इसमें दस्तावेजों की चैकिंग के दौरान सामने आया कि बिहार के रहने वाले चारों आवेदकों ने अपने असली मूल दस्तावेजों की बजाय फोटो कॉपी जमा करवाई है. इसमें कूटरचित तरीके से तैयार किए गए दस्तावेज भी शामिल हैं. फर्जीवाड़ा सामने आने पर काउंसलिंग के चेयरमैन डॉक्टर संदीप टंडन की तरफ से शास्त्री नगर थाने में शिकायत की गई.

चारों आवेदकों के काउंसलिंग में शामिल होने पर रोक लगाई
शास्त्री नगर थानाप्रभारी दिलीप सिंह शेखावत ने बताया कि रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि चारों युवकों ने फर्जी डॉक्यूमेंट लगाकर पीजी की सीट को ब्लॉक करने का प्रयास किया है. चारों आवेदकों के काउंसलिंग में शामिल होने पर रोक भी लगा दी गई है. आरोपियों ने मूल दस्तावेजों की हू-ब-हू नकल दस्तावेज प्रस्तुत कर सीट को ब्लॉक करने की कोशिश की. इनमें एक आवेदक ने पैसे देकर कूटरचित दस्तावेज तैयार करना भी बताया है. मामले में राजस्थान के बाड़मेर के रहने वाले महेश कुमार को भी संदिग्ध मानकर पूछताछ की गई थी. लेकिन उसके दस्तावेज असली होना सामने आया.

ट्रेन्डिंग खबर :   बक्सर में एक साथ पांच लोगों के शव मिलने से हड़कंप, गंगा घाट के किनारे मिली लाशें

Tags: Crime News, Jaipur news, Job and career, Latest Medical news, Rajasthan news

न्यूज 18

- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
Related News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here