34.4 C
Khagaria
Monday, April 15, 2024
राजस्थान सेल्स एसोसिएशन का वार्षिक उत्सव व् प्रीतिभोज समारोह का भव्य आयोजन सम्पन्न कोसी महाविद्यालय में भीमराव अंबेडकर जयंती बनाया गया उत्तरी पुबी दिल्ली में कन्हैया-मनोज तिवारी आमने-सामने, दिल्ली-बिहार में रोचक चुनाव, पुर्णिया बना केन... जिला पदाधिकारी श्रीमती अलंकृता पांडे द्वारा अंबेडकर जयंती के अवसर पर अंबेडकर चौक पर बाबा साहेब डॉ० भ... मध्य विद्यालय मांदिल में मनाई गई बाबा साहब की जयंती गायत्री परिवार जहानाबाद 150वें रविवासरीय साप्ताहिक वृक्षारोपण कार्यक्रम  अंबेडकर जयंती पर धाकड़ समाज ने किया रक्तदान शिविर का आयोजन भीमराव अंबेडकर की 133 वीं जयंती पर पदाधिकारी पुलिस अधिकारी तथा अन्य अधिकारियों द्वारा माल्यार्पण करत... भारत रत्न बाबा साहब डा० भीमराव अम्बेडकर की जंयती मनाई गई राजद जिलाध्यक्ष मनोहर कुमार यादव ने संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के तैलचित्र पर माल्यर्... बाबा साहब आधुनिक भारत के शिल्पकार थे: राजेश वर्मा भीम राव अम्बेडकर की 133 वीं जयंती समारोह जिला कांग्रेस कार्यालय खगड़िया में आयोजित किया गया नहीं रहे सर्वहारा कांग्रेस के दिग्ज नेता परमानंद चौधरी,शोक का लगा तांता श्रीराम नवमी पर मर्यादापुरुषोत्तम श्री की निकाली जाएगी भव्य शोभायात्रा भीमराव अंबेडकर जी का जन्मदिन मनाया भारत रत्न बाबा साहब डा० भीमराव अम्बेडकर की जंयती मनाई भीमराव अंबेडकर जी के तैल्य चित्र पर कार्यकर्त्ताओ ने पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया लोक सभा आम निर्वाचन, 2024 के मद्देनजर छठ एवं राम नवमी पर्व के अवसर पर जिले के सभी मतदाताओं से जिला न... भोजपुरी कलाकार पवन सिंह का चुनाव लड़ना काराकाट से तय रुद्र एंटरटेनमेंट का शुभारंभ,जल्द शुरू करेंगे भोजपुरी फिल्म का निर्माण

आजादी के बाद भी सासाराम लोकसभा क्षेत्र के 250 गांव में बिजली नहीं , सासाराम टिपु सुलतान

*पीने के पानी के लिए भी जाना पड़ता है गांव से दूर सड़क, बिजली, पेयजल सहित तमाम मूलभूत सुविधाएं नदारद*


जगदूत न्यूज सासाराम रोहतास ब्यूरो संदीप भेलारी
सासाराम लोकसभा क्षेत्र देश का ऐसा लोकसभा क्षेत्र है जिसके अंतर्गत आने वाले लगभग 250 गांव आज भी अंधेरे में हैं। एक तरफ जहां भारत चांद के दक्षिणी ध्रुव पर जाकर पूरी दुनिया को अपना लोहा मनवा चुका है वहीं दूसरी ओर देश के कई गांव ऐसे हैं जहां बिजली व पानी जैसी मूलभूत सुविधाएं भी अब तक नहीं पहुंच पाई है। आजादी के 75 साल बाद भी यहां के लोग पेयजल, शिक्षा, मकान, बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है तथा गुलामी की जीवन व्यतीत कर रहे हैं। सरकार की उपेक्षा का आलम यह है कि लोग पीने के पानी के लिए भी प्रतिदिन दस दस किलोमीटर दूर जाते हैं। महिलाओं और बच्चे 10 किलोमीटर दूर से सर पर बड़े-बड़े बर्तनों में पानी भर कर लाते हैं। जिससे उनका खाना पीना होता है। जबकि जिस चूल्हे पर घर का भोजन बनता है उसी चूल्हे से निकली रोशनी से उनकी रातें कटती है।
हालांकि एक स्थानीय जनप्रतिनिधि के प्रयास से कैमूर पहाड़ी के कुछ गांवों में सोलर प्लेट के माध्यम से बिजली पहुंचाई गई। लेकिन कंपनी का एग्रीमेंट समाप्त होते हीं इन गांवों में बिजली गुल हो गई। वर्ष 2018 में रोहतास प्रखंड के रेहल गांव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का एक कार्यक्रम भी आयोजित हुआ था। जहां कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि कैमूर पहाड़ी के जिन गांवों में सोलर प्लांट के माध्यम से बिजली पहुंचाई जा रही है उसे इलेक्ट्रिक में तब्दील किया जाएगा। लेकिन आज तक इन गांव में ना तो बिजली पहुंचाई गई और ना ही सोलर प्लेट के माध्यम से ही निर्बाध रूप से बिजली आपूर्ति की गई।
आदिवासी समाज से आने वाले रेहल गांव निवासी केश्वर उरांव बताते हैं कि सरकार द्वारा गांव में बिजली आपूर्ति के लिए सोलर प्लांट लगाया गया था। लेकिन इससे एक वर्ष भी पर्याप्त बिजली नहीं मिल पाई। सोलर प्लांट बार-बार खराब हो जाता था तथा शिकायत करने के बाद भी कोई नहीं सुनता। हमारे पूर्वज भी अंधेरे में हीं रहते थे और आज हम लोग भी अंधेरे में ही अपना गुजर बसर कर रहे हैं। वहीं सुरसतिया देवी बताती है कि सोलर प्लांट बहुत पहले ही खराब हो चुका है तथा इससे सभी घरों को भी बिजली नहीं मिलती थी। हमेशा अंधेरे में ही रहते हैं तथा सुखी लकड़ियां जलाकर काम चलता है। पेयजल को लेकर जब रेहल गांव की महिलाओं से बात की गई तो सतिया देवी ने बताया कि पानी के लिए बहुत मारामारी है। कई किलोमीटर दूर जाकर पीने के लिए पानी लाना पड़ता है जिसमे घंटों लग जाते हैं।
बता दें कि सासाराम लोकसभा क्षेत्र से कई सांसद जीतकर सरकार में आए तथा केंद्रीय मंत्री भी रहे। वर्ष 2009 में तत्कालीन कांग्रेस की सरकार में लोकसभा की स्पीकर बनी मीरा कुमार भी सासाराम लोकसभा क्षेत्र से हीं जीतकर गई। लेकिन इस लोकसभा क्षेत्र के ढाई सौ गांवों की किसी ने सुध नहीं ली। पिछले दो बार से भाजपा सांसद छेदी पासवान ने भी इन गांवों का दौरा कर कई वादे किए। लेकिन सरकार में रहने के बावजूद भी पेयजल, बिजली, सड़क आदि समस्याओं के निदान की दिशा में कोई कदम नहीं उठाए गए। जिससे यहां के लोगों का अब जनप्रतिनिधियों पर से भरोसा भी उठ गया है।


Prabhu Jee
Prabhu Jeehttp://www.jagdoot.in
ब्यूरो चीफ, खगड़िया (जगदूत न्यूज)
सम्बंधित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here


रिपोर्टर की अन्य खबरें


नई खबरें