Homeपटना7 जून से महात्मा गांधी सेतु के पूर्वी लेन पर भी फर्राटा...

7 जून से महात्मा गांधी सेतु के पूर्वी लेन पर भी फर्राटा भरेंगी गाड़ियां, Exclusive Video देखिये

- Advertisement -

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कई बार अपने इस विजन की चर्चा की है कि सड़क मार्ग से बिहार के किसी भी जिले से 6 घंटे में राजधानी पटना पहुंच पाएं. इसके लिए केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार का पूरा सहयोग भी बिहार सरकार को मिल रहा है. इसी क्रम में कई एक्सप्रेसवे परियोजनाओं से लेकर अनेकों बड़े पुलों का निर्माण द्रुत गति से चल रहा है. इसी कड़ी में एक बड़ी अड़चन भी जल्द ही दूर होने वाली है क्योंकि उत्तर बिहार से दक्षिण बिहार जाने वालों की मुश्किलें खत्म होने वाली हैं. पटना के गंगा नदी पर महात्मा गांधी सेतु पर पूर्वी लेन का निर्माण पूरा हो चुका है और 7 जून को गांधी सेतु के पूर्वी लेन का उद्घाटन केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सीएम नीतीश कुमार करेंगे. इस लेन से भी आवागमन चालू हो जाने के बाद गांधी सेतु पर लगने वाला घंटों के जाम से लोगों को मुक्ति मिल जाएगी.

ट्रेन्डिंग खबर :   प्रशांत किशोर से क्‍या है चिराग पासवान का नाता? क्‍या दोनों मिलकर बिहार में बनाएंगे नया फ्रंट?

बता दें कि वर्तमान में गांधी सेतु के एक ही लेन से आवागमन हो पा रहा है. यही कारण है कि अभी जाम के कारण साढ़े पांच किलोमीटर पुल को पार करने में दो घंटे तक लग जाता है. मगर इस पूर्वी लेन के चालू हो जान के बाद अब 15 से 20 मिनट में पटना से वैशाली जिला में प्रवेश कर सकेंगे. इससे पहले पश्चमी लेन का उद्घाटन जून 2020 में हुआ था. उसी समय पूर्वी लेन का काम शुरू हो गया था.

गौरतलब है कि पहले गांधी सेतु कंक्रीट का जर्जर पुल बना हुआ था जिसे स्टील के सुपरस्ट्रक्चर में तब्दील किया गया है. साल 2014 में गांधी सेतु की मरम्मत की सहमति बनी थी. पहले चरण में पश्चिमी लेन की मरम्मत का कार्य वर्ष 2017 में शुरू शुरू हुआ था और इससे गाड़ियों का परिचालन वर्ष 2020 से ही जारी है. अब पूर्वी लेन की मरम्मत का कार्य पूरा कर लिया गया है. मरम्मत कर रही एजेंसी को हर हाल में मई तक काम पूरा करने को कहा गया है.

ट्रेन्डिंग खबर :   बक्सर में एक साथ पांच लोगों के शव मिलने से हड़कंप, गंगा घाट के किनारे मिली लाशें

अभी पूर्वी लेन वाले हिस्से में कालीकरण का काम चल रहा है. कुछ दूरी की बैरिकेडिंग की जानी है जिसका काम युद्धस्तर पर जारी है. 5.575 किमी लंबे इस पुल की मरम्मत में 1742 करोड़ खर्च हुए हैं.गांधी सेतु का निर्माण 1983 में किया गया था जिसपर 87 करोड़ की राशि खर्च हुई थी. अभी सिर्फ सुपर स्ट्रक्चर तैयार करने में 1382 करोड़ रु खर्च हुए हैं.

© न्यूज 18

- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
Related News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here